Friday, December 3, 2021
- Advertisment -

e-Rupi Digital Payment Kya Hai और e-RUPI कैसे काम करता है?

- Advertisement -

e-Rupi एक कैशलेस माध्यम है जिसे आज भारत सरकार द्वारा कुछ दिन पहले जारी किया जाएगा है। इस कॉन्टैक्टलेस डिजिटल पेमेंट माध्यम का शुभारंभ आज देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी करेंगे। अब आप इस ई-रुपी डिजिटल पेमेंट के जरिए देश में कहीं भी पेमेंट कर सकते हैं।

एसएमएस स्ट्रिंग या एक क्यूआर कोड के माध्यम से, यह ऐप पूरे देश में भुगतान विकल्प के रूप में मोबाइल पर भेजा जाएगा। e-Rupi Digital Payment ऐप कैसे काम करता है, इस बारे में हम आपको अपने लेख में पूरी जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं। डिजिटल ई-रूपी का क्या लाभ और नुकसान है।

E-Rupi

e-Rupi Digital Payment क्या है?

e-Rupi Digital Payment 2 अगस्त 2021 को सभी डिजिटल भुगतानों को और भी आसान बनाने के लिया लॉन्च हो रहा है। eRupi से आप रिडीम वाउचर खरीद सकते हैं। उपहार भेज सकते हैं, eRupi Covid Vaccine Booking Online और कई अन्य सुविधाएं ले सकते है ।

ई-रूपी डिजिटल भुगतान पंजीकरण जल्द ही शुरू हो रहा है। अब आप ERupi App को google play store या Apple app store से डाउनलोड कर सकते हैं।

यह National Payment Corporation of India (NPCI) और वित्त मंत्रालय द्वारा विकसित एक नया इंटरफ़ेस है। यह एक तरह की डिजिटल करेंसी है जिसमें यूजर टू यूजर इंटरफेस का इस्तेमाल किया जाता है। इस e-RUPI के माध्यम से, आप विभिन्न सेवा प्रदाताओं, से eRupi रिडीम वाउचर प्राप्त कर सकते हैं और यह एक प्रीपेड प्रकार की सेवा होगी।

हालांकि यह मौजूदा यूपीआई (यूनीक पेमेंट इंटरफेस) पर आधारित है। लेकिन यह उन अनूठे प्लेटफॉर्मों में से एक है जहां आप किसी को उपहार भेज सकते हैं या बिना किसी भौतिक संपर्क के कोई भी सेवा खरीद सकते हैं।

नीचे हमारे पास इस eRupi प्लेटफॉर्म पर जानकारी है जैसे eRupi आवेदन और पंजीकरण प्रक्रिया पर ऑनलाइन कैसे खरीदें।

e-RUPI कैसे काम करता है?

- Advertisement -

e-RUPI को कैशलेस ऐप के रूप में विकसित किया गया है। इस ऐप को देश की आम जनता के मोबाइल पर भेजने के लिए एसएमएस स्ट्रिंग या क्यूआर कोड सिस्टम की मदद ली जाएगी।

लाभार्थी इस ऐप को सीधे अपने मोबाइल पर एसएमएस स्ट्रिंग या क्यूआर कोड के माध्यम से डाउनलोड कर सकते हैं। आप इस प्रीपेड गिफ्ट-वाउचर ऐप का इस्तेमाल बिना किसी क्रेडिट या डेबिट कार्ड, मोबाइल ऐप या इंटरनेट बैंकिंग के कर सकते हैं।

ई-रुपी डिजिटल पेमेंट सेवाओं के प्रायोजकों को इस ऐप को देश के हर मोबाइल पर भेजने के लिए किसी के साथ फिजिकली इंटरफेस करने की जरूरत नहीं होगी।

इसे आप प्रीपेड गिफ्ट वाउचर के तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं। इस ई-रुपी डिजिटल पेमेंट सेवा के माध्यम से लाभार्थियों और सेवा प्रदाताओं को जोड़ा जाएगा। आज इस ई-रुपी कैशलेस सिस्टम को भारत के प्रधानमंत्री द्वारा लॉन्च किया जाएगा।

आये थोड़ा और सरल तरीके से समझते है। जैसे;

सरकारें या कॉरपोरेट संस्थाएं उन बैंकों से संपर्क कर सकती हैं जो यह सुविधा प्रदान करते हैं और 10,000 रुपये से कम की विशिष्ट राशि के लिए वाउचर जारी करते हैं। वाउचर को क्यूआर कोड या एसएमएस स्ट्रिंग के रूप में लाभार्थी के मोबाइल फोन पर भेजा जाएगा।

लाभार्थी को काउंटर पर क्यूआर कोड या एसएमएस स्ट्रिंग दिखाना होगा जहां उसे भुगतान करना है। इसे काउंटर पर मोबाइल फोन से स्कैन किया जाएगा।

- Advertisement -

स्कैनिंग के दौरान 6 अंकों का ऑथेंटिकेशन कोड जेनरेट होगा। लाभार्थी को यह प्रमाणीकरण कोड काउंटर पर बैठे व्यक्ति को बताना होगा। एक बार, वाउचर सत्यापन पूरा हो जाने के बाद, भुगतान किया जाता है।

ई-रूपी वाउचर कैसे जारी किए जाएंगे?

यह सिस्टम एनपीसीआई ने अपने यूपीआई प्लेटफॉर्म पर तैयार किया है। जिसमें कई बैंकों को भी जोड़ा गया है। निगमित किए जाने वाले बैंकों को जारीकर्ता संस्थानों के रूप में इसका एक प्रमुख हिस्सा बनाया गया है।

इस ई-रुपी प्रणाली के माध्यम से मातृ एवं शिशु कल्याण योजनाओं, टीबी उन्मूलन कार्यक्रमों के तहत दवाएं और पोषण संबंधी सहायता प्रदान की जाएगी ताकि दी जाने वाली सहायता सीधे लाभार्थी तक पहुंचे।

इस प्रणाली में लाभार्थी की पहचान उसके मोबाइल नंबर से की जाएगी। इस प्रणाली द्वारा जारी किए गए ई-रूपी वाउचर का उपयोग केवल वही व्यक्ति कर सकता है जिसे उसे ई-रूपी वाउचर आवंटित किया गया होता।

पीएमओ की ओर से जारी बयान में कहा गया कि साकार इस प्रणाली का उपयोग आयुष्मान भारत, प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, उर्वरक सब्सिडी आदि में भी कर सकते हैं।

eRUPI के उपयोग क्या हैं?

सरकार द्वारा देश में e-RUPI के माध्यम से कई सेवाएं प्रदान की जाएंगी। इसका उपयोग वेलनेस सेवाओं की लीक-प्रूफ डिलीवरी सुनिश्चित करने के लिए भी किया जा सकता है।

उर्वरक सब्सिडी, टीबी उन्मूलन कार्यक्रम, आयुष्मान भारत, प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, मातृ एवं बाल कल्याण योजनाओं आदि के लीक-प्रूफ वितरण के लिए उपयोग किया जाना है।

- Advertisement -

सरकार ने इस डिजिटल वाउचर का लाभ निजी क्षेत्र के कर्मचारी कल्याण और कॉर्पोरेट सामाजिक के लिए देने की भी बात की है।

यह ऐप सामान्य भुगतान ऐप के रूप में जारी नहीं किया गया है। सरकार द्वारा आज जारी किए जाने के बाद जल्द ही आप ई-आरयूपीआई के माध्यम से कई सेवाएं प्राप्त कर सकेंगे।

e-RUPI को एसएमएस स्ट्रिंग या क्यूआर कोड के जरिए पूरे देश में फैलाया जाएगा।

ई-रुपी डिजिटल पेमेंट का क्या महत्व है?

वाउचर आधारित भुगतान प्रणाली के रूप में विकसित इस ई-रूपी डिजिटल भुगतान प्रणाली को काफी प्रभावी माना जा रहा है।

वाउचर आधारित भुगतान प्रणाली होने के कारण इसे भुगतान के लिए काफी सुरक्षित माना जाता है। अंतर्निहित परिसंपत्ति की विशिष्टता और इसके उद्देश्य के कारण, इसे आभासी मुद्रा नहीं माना जा सकता है।

सरकार द्वारा लंबे समय से इस केंद्रीय बैंक की डिजिटल मुद्रा को विकसित करने पर ध्यान केंद्रित किया गया था। आज यह वाउचर आधारित भुगतान प्रणाली भारत सरकार द्वारा शुरू की जाएगी।

उम्मीद की जा रही है कि वाउचर आधारित भुगतान प्रणाली काफी सुरक्षित साबित होगी। आप जल्द ही ई-रूपी डिजिटल भुगतान प्रणाली का उपयोग करने में सक्षम होंगे।

eRUPI Covid वैक्सीन गिफ्ट वाउचर कैसे मिलेगा।

  • आप लाभार्थी के पास कोविड वैक्सीन का स्लॉट बुक कर सकते हैं और उनके मोबाइल नंबर पर भेज सकते हैं।
  • इसके बाद लाभार्थी एसएमएस पर प्राप्त क्यूआर कोड के माध्यम से वैक्सीन को रिडीम करेंगे।
  • आपको वाउचर को टीकाकरण केंद्र में क्यूआर कोड के रूप में दिखाना होगा और टीकाकरण के लिए इसका इस्तेमाल करना होगा।
  • यह उपयोगकर्ता के आधार पर शून्य या मध्यम व्यक्ति द्वारा कोई बाधा नहीं है।
  • निजी क्षेत्र के नियोक्ता भी अपने कर्मचारियों को स्वास्थ्य सुविधाएं आदि जैसी सेवाएं प्रदान करने के लिए इस प्रणाली का उपयोग कर सकते हैं।

eRUPI डिजिटल भुगतान एप्लिकेशन का उपयोग कैसे करें?

  • आपको अपने मोबाइल नंबर का उपयोग करके e-Rupi पर पंजीकरण करना होगा।
  • अब उस सेवा का चयन करें जिसे आप किसी के साथ भेजना या साझा करना चाहते हैं।
  • आप विभिन्न स्वास्थ्य देखभाल योजनाओं, सरकारी योजनाओं के वाउचर और अधिक के बीच चयन कर सकते हैं।
  • अब इसे लाभार्थी के मोबाइल नंबर पर भेजें और वे इसे एसएमएस या क्यूआर कोड के रूप में प्राप्त करेंगे।
  • अंत में इस क्यूआर कोड को किसी भी नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र या अस्पताल में भुनाना होता है।

एंड्रॉइड फोन पर ई रुपी ऐप कैसे डाउनलोड करें?

यह काफी सरल है, आप इस पेज पर जा सकते हैं ई-रूपी ऐप डाउनलोड करने के लिए सीधा लिंक दिया गया है या Google play store पर जाएं, ई रूपी ऐप खोजें और इंस्टॉल पर क्लिक करें।

eRUPI के फायदे।

  1. लाभार्थी के पास कोई बैंक खाता या ऑनलाइन बैंकिंग सुविधा या मुद्रा होने की आवश्यकता नहीं है।
  2. अन्य आपके ई-आरयूपीआई कोड का उपयोग नहीं कर सकते क्योंकि इसे आपकी ओर से प्रमाणीकरण की आवश्यकता है।
  3. इस लेनदेन के लिए आपको केवाईसी विवरण साझा करने की आवश्यकता नहीं है।

यह गरीब लोगों की मदद कैसे करेगा?

यह एक सीधा लाभ हस्तांतरण समाधान है जहां सरकार एसएमएस या क्यूआर कोड के रूप में सीधे आपके मोबाइल पर लाभ भेज सकती है। आप अपने e-Rupi Digital Payment से जुड़े अपने सवाल हमें कमेंट बॉक्स में लिख सकते हैं।

सामान्य प्रश्न

क्या व्यक्तिगत लेनदेन संभव हो सकता है?

e-Rupi Digital Payment व्यक्तियों के बीच लेनदेन के लिए नहीं है। यह एक विशिष्ट उद्देश्य के लिए ई-वाउचर भुगतान है। इस ई-वाउचर को केवल अधिकृत संस्था ही भुना सकती है।

क्या बैंक खाते के बिना e-Rupi लेनदेन संभव है?

ई-वाउचर किसी व्यक्ति को एक विशिष्ट उद्देश्य के लिए दिया जाता है। इसका उपयोग करने के लिए, आपको बैंक खाता रखने की आवश्यकता नहीं है। यदि स्मार्टफोन नहीं है, तो ई-वाउचर आपके फोन पर एसएमएस स्ट्रिंग के रूप में डिलीवर हो जाएगा। इसे उस स्थान पर आसानी से स्कैन किया जा सकता है जहां आप इसे मोबाइल फोन का उपयोग करके जमा करते हैं।

आप कितनी बार ई-वाउचर का उपयोग कर सकते हैं?

वाउचर का उपयोग केवल एक बार किया जा सकता है। फिलहाल 10,000 रुपये तक का वाउचर जारी किया जा सकता है। आपको इस वाउचर का किसी अन्य उद्देश्य के लिए उपयोग करने की अनुमति नहीं है। आपको किसी के साथ e-Rupi वाउचर का आदान-प्रदान करने से भी रोक दिया गया है।

कौन से बैंक यह सुविधा दे रहे हैं?

एसबीआई, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, पंजाब नेशनल बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, एक्सिस बैंक, केनरा बैंक, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, इंडसइंड बैंक, इंडियन बैंक और कोटक बैंक।

- Advertisement -

संबंधित पोस्ट

- Advertisment -

ज़रूर पढ़ें

- Advertisement -